Saturday , June 15 2024

हिंदू और सिखों को संपत्ति का अधिकार देगा तालिबान

पूनम शुक्ला : मुख्य प्रबन्ध संपादक :

15 अगस्त 2021 को जब तालिबान ने काबुल पर कब्जा किया था । तब यह बात किसी ने सोची नहीं होगी की तरकीब ढाई वर्षो में तालिबान के रिश्ते भारत और पाकिस्तान के साथ इस तरह से बदल जाएंगे।
ऐसा प्रतीत होता है कि पाकिस्तान और तालिबान के बीच दूरियां बढ़ती जा रही है । जबकि भारत पर तालिबान की सरकार के बीच सामंजस्य बन रहा है। एक तरफ भारत लगातार अफगानिस्तान को मानवी अधिकार पर मदद दे रहा है। अफगानिस्तान की तरफ से संदेश दिया गया है कि वह हिंदू और सिख नागरिकों को संपत्ति का अधिकार देने जा रहा है।

तालिबान की तरफ से अफगानिस्तान के हिंदू और सिख नागरिकों को संपत्ति का अधिकार देने के बारे में पूछने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जायसवाल ने जवाब में कहा, कि हमें इसकी जानकारी है,अगर तालिबान ने इस तरह का कदम उठाया है तो हम इसे एक सकारात्मक प्रगति के तौर पर देखते हैं। सनद रहे कि कुछ दिन पहले ही भारतीय विदेश मंत्रालय में अफगान संबंधी मामलों को देखने वाले कुछ वरिष्ठ अधिकारियों ने नई दिल्ली स्थित अफगानी दूतावास का दौरा किया था। यह दूतावास कुछ महीने पहले बंद कर दिया गया था, क्योंकि यहां पर कार्यरत राजदूत व दूसरे वरिष्ठ अधिकारियों ने दूसरे देशों में शरण ले ली थी ।

इसके पहले भारतीय विदेश मंत्रालय में पाकिस्तान अफगानिस्तान और ईरान संभाग के प्रमुख जेपी सिंह ने अपनी टीम के साथ काबुल का दौरा भी किया था । भारत समय-समय पर अफगानिस्तान की जनता को अनाज व दवाइयों की मदद भेजता रहा है। फरवरी 2023 में पेश आम बजट में 200 करोड रुपए का प्राविधान अफगानिस्तान के लिए किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

4 + nine =

E-Magazine