Tuesday , July 23 2024

जिन्हें गोद उठाने से कंधे कभी थकते नहीं थे, आज वही कंधे बेटों को बोझ लगने लगे

पूनम शुक्ला:मुख्य प्रबन्ध संपादक:

आजकल जमाना कुछ इस तरह बदल रहा है कि लोग घर के बटवारे के बाद अपने मां-बाप को भी बांट देते हैं। ऐसी एक कहानी कानपुर में चल रही है यह लगभग बागवान फिल्म जैसी हैं । कानपुर की यहां एक 89 वर्ष की वृद्धा के चार बेटों ने संपत्ति में हिस्सा लेने के बाद मां का ही बंटवारा कर डाला ।वृद्धा का हाल बागवान फिल्म के जैसा ही हो गया। जिसमें अभिनेता और अभिनेत्री को उनके ही बेटें 6-6 महीने अलग-अलग रहने को मजबूर कर देते हैं ।

खैर बागवान एक कहानी थी,लेकिन यहां पर यह असल होता हुआ पाया जा रहा है । असल बात तो तब सामने आई, जब हद हो गई। जब पोते (बड़े बेटे के पुत्र) ने उन पर हाथ उठा दिया ।गाली देते हुए बाल पड़कर खींचे और तमाचे मारे। इतना ही नहीं वृद्ध के बेटे ने भी अपने ही पुत्र का पक्ष लिया। इसके बाद मजबूर वृद्धा ने किदवई नगर पुलिस से शिकायत की। पुलिस ने बड़े बेटे और पोते के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

वृद्धा के मुताबिक उसके चार बेटे और तीन बेटियां हैं । उनके मुताबिक 8 साल पहले ही अपने बेटों को बोझ लगने लगी थी,घर में चर्चा होने लगी कि उन्हें कौन रखेगा और खाना कौन खिलाएगा। घर में मन- मुटाव देखकर छोटी बेटी ने कहा, कि मां चार बेटों में तीन-तीन महीने रहेंगी। तब से यह सिलसिला चलता आ रहा है।मां ने कहा जिन्हें गोद उठाने से कंधे कभी थकते नहीं थे, आज वही कंधे बेटों को बोझ लगने लगे।
वृद्ध मां ने उन दोनों पर आरोप लगाया है कि किसी बात से नाराज होता बड़े बेटे विकास का बेटा साहिल पांडे उनसे गाली गलौज करने लगा। साथ ही बाल पड़कर खींचे और तमाचे भी लगाए। साथ ही धमकी दी कि तुम्हारे छोटे लड़के को मार देंगे इसके बाद बाकी दोनों को भी मार देंगे। थाना प्रभारी ने बताया कि मारपीट और जान से मारने की धमकी के कारण वृद्ध की तहरीर पर बड़े बेटे और उनके पोते के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

sixteen + 2 =

E-Magazine