Saturday , June 15 2024

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को लेकर चला सीबीआई का “ऑपरेशन मेघ चक्र”

केकेपी न्यूज़ ब्यूरो :

चाइल्ड पोर्नोग्राफी यानि बाल यौन शोषण सामग्री ऑनलाइन डाउनलोड करके शेयर करने वालों के खिलाफ सीबीआई ने देश के 21 से अधिक राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में छापेमारी की कार्रवाई करते हुए 59 स्थानों पर छापे मारे | जिसमें 50 से अधिक लोगों के मोबाइल व लैपटॉप की फोरेंसिक जाँच की गयी | उसमें से कई मोबाइल व लैपटॉप में चाइल्ड पोर्नोग्राफी को डाउन लोड करने व इसे शेयर करने के सबूत मिले हैं |

सूत्रों के अनुसार, पिछले दिनों सिंगापुर स्थित इंटरपोल की विशेष इकाई क्राइम अगेंस्ट चिल्ड्रेन(CAC) ने सीबीआई को भारत में कई लोगों द्वारा चाइल्ड पोर्नोग्राफी को डाउनलोड करने व शेयर करने की जानकारी दी थी | यह जानकारी उसे न्यूजीलैंड ने दी थी | इसके बाद सीबीआई ने 200 अधिकारियों की टीम गठित कर संदिग्धों की पहचान होने के बाद छापेमारी की कार्रवाई की |

वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, “छापेमारी में पकड़े गए लोग विभिन्न सोशल मीडिया समूहों पर आपत्तिजनक बाल यौन शोषण सामग्री शेयर करने में शामिल हैं | संदिग्धों से उनके इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में पाए गए बाल यौन शोषण सामग्री के संबंध में पूछताछ की जा रही है,ताकि पीड़ितों और दुर्व्यवहार करने वालों की पहचान की जा सके | बताते चलें कि सीबीआई ऑनलाइन चाइल्ड पोर्नोग्राफी के खिलाफ ग्लोबल ऑपरेशन का नेतृत्व कर रही है | इसी के तहत ऑपरेशन चक्र चला रही है | इसमें अन्तराष्ट्रीय लिंक की पड़ताल की जाती है |

इसी तरह पिछले साल भी सीबीआई ने ऑपरेशन “कार्बन” के तहत कार्रवाई की थी | अब तक के आंकड़ो की माने तो लोकसभा में प्रस्तुत आंकड़े बताते हैं कि चाइल्ड पोर्नोग्राफी के मामलों में 2018 से लेकर 2020 तक 17 गुणा की वृद्धि हुई है | 2018 में चाइल्ड पोर्नोग्राफी के 44 मामले दर्ज किये गये थे | वही 2020 में बढ़कर 738 हो गये | आकड़ों के अनुसार, चाइल्ड पोर्नोग्राफी में उत्तर प्रदेश व केरल शीर्ष स्थान पर हैं |
सीबीआई ने ‘ऑनलाइन चाइल्ड प्रोनोग्राफी’ और उससे जुड़े मामलों की जांच के लिए 2019 में OCSAE (ऑनलाइन चाइल्ड सेक्सुअल एब्यूज एण्य एक्सपॉइटेशन) नाम की विशेष यूनिट का गठन किया था, जो ऑनलाइन चाइल्ड प्रोनोग्राफी और बच्चों को फिजिकल रूप से ब्लैकमेल करने जैसे मामलों की जांच करती है | OCSAE ऑनलाइन चाइल्ड प्रोनोग्राफी को रोकने के लिए विदेशी दूतावासों व इटरपोल के साथ मिलकर काम करती है |

Leave a Reply

Your email address will not be published.

4 − one =

E-Magazine